अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा कौनसी है

अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा कौनसी है – पुरुष में अंडकोष की थैली में वृषण होते है. जो की एक प्रजनन अंग हैं. इनका कार्य शुक्राणु बनाने का और सेक्स होर्मोन बनाने का काम करते हैं. वृषण बहुत ही संवेदनशील होते हैं. इसलिए इसमें छोटी सी भी चोट या समस्या हो जाए तो वृषण में दर्द हो सकता हैं.

वृषण को अंडकोष भी कहा जाता हैं. कभी कभी किसी को अंडकोष में सुजन या किसी कारणसर कुछ समस्या हो जाती है जिसकी वजह से अंडकोष की नसों में सुजन आ जाती हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा के बारे में बताने वाले हैं. तो आइये चलिए इस दवाई के बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं.

andkosh-ki-naso-me-sujan-ki-homeopathic-dwa-ka-nam (1)

अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा

हम जो भी नीचे होम्योपैथिक दवाई बताने वाले है वह सभी दवाई अंडकोष की नसों में सुजन के लिए फायदेमंद हैं.

(1)एकोनिटम नैपेल्लस (Aconitum Napellus)

इस दवाई का सामान्य नाम: मोन्क शुड (Monkshood)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • अंडकोष में चोट लगने जैसा दर्द होना.
  • अंडकोष में सुजन होना तथा उनका सख्त होना.
  • बार बार स्खलन की समस्या होना.
  • चेहरे पर सुजन रहना.
  • हमेशा बैचेनी और डर रहना
  • पेनिस के ऊपरी वाले भाग में चुभने वाला दर्द होना.

शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक दवा Himalaya, बैद्यनाथ, पतंजलि

(2)ब्रोमियम (Bromium)

इस दवाई का सामान्य नाम: ब्रोमाइन (Bromine)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • अंडकोष में सुजन होना तथा उनका सख्त होना.
  • हल्का सा हिलने पर भी दर्द होना.
  • त्वचा पर फोड़े होने.
  • सिरदर्द रहना तथा झगड़ालू व्यवहार करना.
  • जीभ से लेकर पेट तक जलन होना.

जलने की मेडिसिन क्रीम नाम, प्राइस | जलने की दवा इन हिंदी

(3)क्लेमैटिस इरेक्टा (Clematis Erecta)

इस दवाई का सामान्य नाम: वर्जिन बोवर (Virgin’s bower)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • अंडकोष में चोट लगना या सख्त होना.
  • अंडकोष की थैली में सुजन होना.
  • मूत्रमार्ग में चुभने वाला दर्द होना.
  • अंडकोष का भारी या पीछे की और जाना.
  • शुक्राणु नलिका में दर्द महसूस होना.
  • हमेशा उलझन में रहना
  • चेहरे और नाक पर सफ़ेद रंग के फोड़े होना.

andkosh-ki-naso-me-sujan-ki-homeopathic-dwa-ka-nam (3)

(4)हैमेमेलिस वर्जिनियाना (Hamamelis Virginiana)

इस दवाई का सामान्य नाम: विच हेजल (Witch hazel)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • शुक्राणु नलिका से लेकर अंडकोष तक दर्द होना.
  • अंडकोष का बढना, गर्म होना तथा सुजन रहना.
  • पेट में दर्द होना.
  • माथे की हड्डी के उपर सुन्नता महसूस होना.
  • जीभ पर जलन होना.

Pregnancy me white discharge kab hota hai in hindi – सम्पूर्ण जानकारी

(5)औक्जेलिकम एसिडम (Oxalicum Acidam)

यह दवाई का सामान्य नाम: सोरेल एसिड (Sorrel acid)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • अंडकोष में भारीपन लगना.
  • वीर्य को बनाने वाली ग्रंथी में दर्द होना.
  • शुक्राणु नलिका में दर्द होना.
  • मूत्रमार्ग में जलन होना तथा तथा पेशाब करते समय दर्द होना.
  • संवेदनशील त्वचा पर दर्द जैसा महसूस होना.

(6)पूल्सटीला प्रटैनसिस (Pulsatilla Pratensis)

यह दवाई का सामान्य नाम: विंड फ्लोवर (Wind Flower)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • उल्टी
  • सीने में जलन
  • पेट में सुजन
  • मूत्रमार्ग से मोटा डिस्चार्ज होना.
  • अंडकोष की थैली खुजली और गुदगुदी जैसा अहसास होना.
  • जननांगो में जलन होना
  • वृषण में सुजन होना
  • पेट से अंडकोष की तरफ बढ़ने जैसा दर्द होना
  • मूत्राशय में दबाव का अहसास होना
  • पेट में झुनझुनाहट होना

एसिडिटी / पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय क्या हैं

(7)रोड़ोडेड्रोन (Rododredron)

इस दवाई का सामान्य नाम: स्नो रोज (Snowroz)

यह दवाई निम्नलिखित लक्षणों में उपयोगी हैं:

  • छूने पर दाए अंडकोष में दर्द
  • अगर ऐसा कोई दर्द जो एक अंडकोष से दुसरे अंडकोष में फैलता हैं.
  • वृषण का अंडकोष की थैली से पेट और जांघ के बिच चले जाना
  • लिंग के नीचे कुछ धमक जैसा अहसास होना.
  • बैठते समय जांघ और पेडू के बिच दर्द होना.
  • वृषण में खिचाव वाला दर्द होना.
  • संभोग के प्रति रूचि ना होना.
  • वृषण में सुजन होना.
  • जांघो और जननांगो में दर्द होना.
  • तरल पदार्थ के सेवन के बाद उल्टी होना.
  • बार बार जी मिचलाना
  • पसलियों में दर्द होना
  • अंडकोष का सिकुड़ जाना
  • जननांगो के पास जांघ में दर्द होना.

andkosh-ki-naso-me-sujan-ki-homeopathic-dwa-ka-nam (2)

दोस्तों तो यह सभी दवाई है. जो अंडकोष की नसों में सुजन होने पर उपयोगी साबित हो सकती है. अंडकोष में किस प्रकार का दर्द हैं. यह लक्षण हमने बताए हैं. आप अपने लक्षण देखे और उस प्रकार से दवाई का चुनाव करे.

होम्योपैथिक की दवाई बहुत ही कम खुराक में दी जाती हैं. और यह दवाई जब भी आप चालू करे खान-पान का भी ध्यान रखना चाहिए. कॉफ़ी, चाय, शराब, तैलीय भोजन, ठंडी चीज़े, नमक तथा चीनी यह सभी सेवन नहीं करे. हमेशा पौष्टिक आहार हैं.

हिमालया अश्वगंधा टेबलेट के फायदे, नुकसान, प्राइस –  सम्पूर्ण जानकारी

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा बताई हैं. साथ में हमने लक्षण भी बताए ताकि आप दवाई चुनाव सही करे सके.

जब तक आपकी दवाई चल रही हैं. आपको कुछ खान-पान का ध्यान रखना होगा. वह भी हमने आपको बताया हैं. अगर हो सके तो डॉक्टर की परामर्श से आप यह सभी दवाई ले. ताकि अच्छे से निदान हो सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह आर्टिकल अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

अंजीर मर्दाना ताकत बढ़ाने में सहायक जाने कैसे / अंजीर को कैसे खाना चाहिए

त्वचा के लिए limcee गोली लाभ | limcee tablet benefits for skin hindi

कोलगेट से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करते हैं – प्रेगनेंसी टेस्ट के घरेलू उपाय और पहचान

1 thought on “अंडकोष की नसों में सूजन की होम्योपैथिक दवा कौनसी है”

Leave a Comment