कान के नीचे सूजन का इलाज, कारण, लक्षण | कान के नीचे सूजन को क्या कहते है

कान के नीचे सूजन का इलाज, कारण, लक्षण | कान के नीचे सूजन को क्या कहते है – अक्सर हमारे कान के नीचे सुजन हो जाती है. उसे गलसुआ कहते हैं. गलसुआ को अंग्रेजी में मम्प्स के नाम से जाना जाता हैं. कान के नीचे गलसुआ होने की वजह से वहां दर्द होता हैं. गलसुआ एक संक्रमित रोग है. जो एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में आसानी से फ़ैल जाता हैं.

संक्रमित व्यक्ति की लार, छिकने या खांस ने से तथा संक्रमित व्यक्ति के बर्तन उपयोग में लेने से भी यह दुसरे व्यक्ति को संक्रमित कर देता हैं. और उसे भी गलसुआ होने की संभावना होती हैं. इसलिए गलसुआ जिस व्यक्ति को हुआ है. उससे दुरी बनाके रखनी चाहिए.

Kan-ke-niche-sujan-ilaj-karan-lakshan-kya-khte (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कान के नीचे सूजन का इलाज जिसे गलसुआ कहा जाता है. इससे बचने के उपाय तथा इलाज के बारे में बताने वाले हैं. इसके अलावा कान के नीचे होने वाली सुजन के कारण और लक्षण के बारे में भी बताने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकरी प्रदान करते हैं.

मस्से हटाने की होम्योपैथिक क्रीमआयुर्वेदिक क्रीम, घरेलू उपाय और उपचार

कान के नीचे सूजन का इलाज

कान के नीचे जो सुजन हो जाती है. उसे गलसुआ कहा जाता हैं. गलसुआ के लिए किसी भी प्रकार का इलाज अभी उपलब्ध नहीं हैं. यह संक्रमित रोग होने के साथ साथ यह रोग होने पर इसकी अवधि को पूर्ण करना पड़ता हैं.

पतंजलि स्वर्ण कांति क्रीम के फायदे, प्राइस, इत्यादि जानकरी

इस रोग की अवधि पूर्ण होने के बाद गलसुआ अपने आप ठीक हो जाता हैं. लेकिन इसके सुजन के कारण होने वाले दर्द तथा थोडा आरामदायक महसूस कराने के लिए आप नीचे दिए गए उपाय कर सकते हैं.

  • अगर गलसुआ होने के बाद सुजन वाली जगह पर दर्द या अन्य कोई परेशानी हो रही है. तो बर्फ या गर्म चीजों से सेंकने से उसे शांत करने में मदद मिलती हैं.
  • सूप, दहीं तथा नरम भोजन जिससे चबाने में कठिनाई न हो ऐसा आहार लीजिए.
  • खट्टी चीजों से दूर रहे क्योंकि खट्टी चीज़े खाने से गलसुआ में और अधिक दर्द हो सकता हैं.
  • गुनगुने पानी से गरारे करे.
  • गलसुआ होने पर रोगी को आराम करना चाहिए.
  • यह रोग संक्रमित होने की वजह से रोगी को दुसरे स्वस्थ लोगो से दूर रखे.
  • मुंह की साफ सफाई समय समय पर करते रहे.
  • यह रोग वायरस की वजह से होता है. इसलिए इसमें अधिक पानी पीने की सलाह दी जाती हैं.

Kan-ke-niche-sujan-ilaj-karan-lakshan-kya-khte (1)

कान के नीचे सूजन को क्या कहते है

कान के नीचे होने वाली सुजन को गलसुआ तथा अंग्रेजी में मम्प्स कहते हैं.

कीमो इंजेक्शन क्या है | किमोथेरापी के प्रकारprice, फायदेनुकसान

कान के नीचे सूजन का कारण

कान के नीचे होने वाली सुजन को गलसुआ कहा जाता हैं. इसमें मरीज के गाल तथा कान के नीचे वाला भाग फूलने लगता हैं. गलसुआ मम्प्स वायरस के कारण होने वाला संक्रमण होता हैं.

भगंदर को जड़ से खत्म करने का उपाय / भगंदर का लेजर ऑपरेशन खर्च कितना है

यह वायरस संक्रमित व्यक्ति की लार तथा अन्य रिसाव की मदद से स्वस्थ व्यक्ति में फैलता हैं. यह वायरस श्वसन तंत्र की मदद से लार ग्रंथी में पहुंच जाता हैं. इसके कारण ग्रंथियों में सुजन आने लगती है. और गलसुआ होता हैं.

कान के नीचे सूजन के लक्षण

आमतौर पर इसके लक्षण जल्दी नहीं दिखाई देते हैं. जब संक्रमण पूरी तरह से फ़ैल जाता है. उसके बाद इसके लक्षण दिखाई देते हैं.

कान के नीचे सुजन के लक्षण कुछ निम्नलिखित हैं:

  • बुखार: इसका सबसे पहला लक्षण बुखार हैं. जैसे ही गलसुआ का संक्रमण होता है. और शरीर में फ़ैल जाता है. तो सबसे पहले बुखार आता हैं.
  • सिर दर्द और भूख नहीं लगना: इसका दूसरा लक्षण है सिर दर्द होना. तथा भूख में कमी आना. कान के नीचे सुजन होने पर मरीज के भूख में कमी आ जाती है.
  • चबाने तथा निगलने में परेशानी: गलसुआ या कान के नीचे सुजन होने पर खाना चबाने में तथा निगलने में समस्या होती हैं. तथा मुंह खोलने वाली ग्रंथि में दर्द महसूस होता हैं.
  • सुजन: गलसुआ होने पर कान के नीचे से लेकर गाल तक और फिर यह सुजन गर्दन तक पहुंच जाती हैं. इतनी सुजन फैलने के कारण मुंह खोलने में परेशानी होती हैं.
  • गर्दन में जकड़न: गलसुआ होने पर गर्दन में भी जकड़न हो जाती हैं. इसकी वजह से मरीज गर्दन को ठीक से हिला भी नहीं पाता हैं.

pet ki garmi patanjali medicine, symptoms, upay in hindi

Kan-ke-niche-sujan-ilaj-karan-lakshan-kya-khte (3)

गलसुआ होने पर रखे जाने वाली सावधानियां

  • यह संक्रमण रोग होने की वजह से मरीज के खाने के बर्तन तथा कपडे आदि अलग रखे.
  • मरीज को स्वस्थ व्यक्ति से दूर रखे.
  • मरीज को खाने में तरल पदार्थ खिलाए.
  • मरीज को अपने मुंह की सफाई अच्छे से करनी चाहिए.
  • जब तक यह समस्या ठीक नहीं होती बाहर के जंक फ़ूड तथा पैक फ़ूड से दूर रहना चाहिए.
  • इस समस्या का कोई भी निवारण नहीं है. बीस से 1 महीने के भीतर गलसुआ अपनी अवधि पूर्ण करने के बाद अपने आप ठीक हो जाता हैं. अगर सुजन के कारण दर्द अधिक है. तो एक बार डॉक्टर को जरुर दिखाए.

बवासीर के मस्से हटाने की दवा पतंजलि और क्रीम / खूनी बवासीर की दवा पतंजलि

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कान के नीचे सूजन का इलाज तथा बचाव के बारे में बताया हैं. इसके अलावा हमने कान के नीचे होने वाली सुजन से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आप के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है आपको हमारा यह कान के नीचे सूजन का इलाज, कारण, लक्षण | कान के नीचे सूजन को क्या कहते है आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

नवविवाहित जोड़े के लिए गर्भावस्था से बचने के उपाय और कैसे बचे

धंसी हुई आंखों को बाहर निकालने का तरीका / आँखे अंदर जाने का कारण

नाक की चर्बी को कैसे कम करें / नाक छोटी करने की दवा और घरेलू उपचार / नाक की सर्जरी का खर्च