कान में मवाद आने का इलाज / कान बहने की दवा घरेलू उपचार, पतंजलि तथा अंग्रेजी दवा

कान में मवाद आने का इलाज / कान बहने की दवा घरेलू उपचार, पतंजलि तथा अंग्रेजी दवा – कुछ लोगो के कान में से चिपचिपा तरल पदार्थ निकलता हैं. जिसे कान का बहना या ओटोरिया कहा जाता हैं. इस समस्या में कान में से मवाद निकलता हैं. इसके अलावा मवाद के साथ ब्लड, पस और अन्य प्रकार के द्रव्य भी निकलते हैं.

कान में से मवाद निकलना किसी इंफेक्शन के कारण हो सकता हैं. कान में से मवाद निकलने की वजह से व्यक्ति परेशान हो जाता हैं. मवाद निकलने के कारण कान में अन्य और गंभीर बीमारी भी हो सकती हैं.

Kan-me-mawad-aane-ka-ilaj-bahne-ki-dwa-Patanjali-angreji (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कान में मवाद आने का इलाज बताने वाले हैं. तथा कान बहने की दवा घरेलू उपचार की भी संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये इस बारे में हम आपको विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान करते हैं.

कान में मवाद आने का इलाज / कान बहने की दवा घरेलू उपचार

कान से मवाद आने के कुछ घरेलू उपचार हमने नीचे बताए हैं.

Kan-me-mawad-aane-ka-ilaj-bahne-ki-dwa-Patanjali-angreji (3)

  • अगर किसी को कान में से मवाद निकल रहा है. तो माजूफल को काटकर अच्छे से पीस ले. अब सिरके में पीसा हुआ माजूफल मिलाकर थोडा सा उबाल ले. थोडा गुनगुना होने पर इस मिश्रण को अच्छे से छान ले. अब इस लिक्विड की दो बूंद बहते हुए कान में डालने से कान में से मवाद निकलना बंध हो जाएगा.
  • मेथीदाना को दूध में एक से दों घंटे भिगोने के लिए रख दे. अब इस मिश्रण को अच्छे से पीस ले. पीसने के बाद इसे हल्का गर्म करे. अब इसकी दों बूंद सुबह शाम कान में डालने से मवाद आना रुक जाता हैं.
  • सूरजमुखी के पत्तो का रस सरसों तेल में मिलाकर कान में डालने से मवाद आने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं.
  • रुई को नीम के तेल में भिगोकर मवाद वाले कान में रखने से कान से मवाद आना बंध हो जाता हैं.
  • एक ग्राम जितना हरताल बर्किय को पीसकर थोड़े से सरसों तेल में पकाए. जब धुआ जैसा निकलने लगे तब तक पकाते रहे. फिर इस तेल को अच्छे से छानकर इसकी दो से तिन बूंद कान में डालने से तिन से चार दिन में मवाद की समस्या से छुटकारा मिलता है.

टाइफाइड कितने दिन तक रहता है टाइफाइड कितने दिन में ठीक होता है / टाइफाइड कैसे होता है

पतंजलि में कान बहने की दवा

अगर आपको कान से संबंधित कोई समस्या है. जैसे की कान दर्द करना या फिर मवाद आदि निकलना तो आप पतंजलि दिव्य सारिवादी वटी का सेवन कर सकते हैं. यह दवाई टेबलेट के रूप में आती हैं. जो आपको पतंजलि के किसी भी स्टोर पर 140 रूपये के आसपास मिल जाएगी. इस दवाई को खाना खाने के 1 घंटे बाद दूध या पानी के साथ लिया जा सकता हैं.

Kan-me-mawad-aane-ka-ilaj-bahne-ki-dwa-Patanjali-angreji (1)

लेकिन इस दवा का सेवन किसी दो वर्ष के कम आयु के बच्चे को तथा गर्भवती महिला को नही करना चाहिए. तथा दवाई का उपयोग किसी डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए.

एक दिन में कितना चुकंदर खाना चाहिए | चुकंदर का जूस कब पीना चाहिए

कान बहने की अंग्रेजी दवा का नाम

कान बहने की मुख्य तिन अंग्रेजी दवा का नाम हमने नीचे दिया हैं. जो ड्रोप के रूप में आती हैं. जिसे कान में डालने से कान बहने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं. लेकिन कोई भी दवाई या ड्रोप का उपयोग डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए.

  • Similasan kids ear relief drop (सिमिलासन किड्स एर रिलीफ ड्रोप): अगर किसी बच्चे को कान बहने की समस्या है. तो इस दवाई के ड्रोप डालने से कान बहने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं.
  • Wallys natural ear oil (वालल्य्स नेचरल एर ओइल): यह एक नेचरल दवाई हैं. जो नेचरल चीजों से बनी हुई हैं. इस दवाई के ड्रोप कान में डालने से कान की सुजन कम होती है. तथा कान बहने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं.
  • Swim ear drying ad (स्विम एर ड्राइंग एडी): अगर किसी के कान में दर्द के साथ कान बह रहा हैं. या फिर कान में सुजन है. तो इस दवाई के ड्रोप डालने से तुरंत आराम मिल जाता हैं.

फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय क्या है – सम्पूर्ण जानकारी

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कान में मवाद आने का इलाज बताया हैं. तथा कान में से मवाद आने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए पतंजलि और अंग्रेजी दवा के बारे में भी संपूर्ण जानकारी प्रदान की हैं. इसके अलावा हमने कुछ घरेलू उपचार भी बताया हैं. आप जो चाहे इनमें से कोई भी उपाय आजमा सकते हैं.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह कान में मवाद आने का इलाज / कान बहने की दवा घरेलू उपचार आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

लौंग का फूल क्यों नहीं खाना चाहिए / एक दिन में कितना लौंग खाना चाहिए

खाली पेट खीरा खाने के फायदे और नुकसान / खीरे के जूस के फायदे

लिकोरिया क्यों होता है / सफेद पानी क्यों आता है / लिकोरिया के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

1 thought on “कान में मवाद आने का इलाज / कान बहने की दवा घरेलू उपचार, पतंजलि तथा अंग्रेजी दवा”

Leave a Comment