तुलसी से सफेद दाग का इलाज | सफेद दाग क्यों होता है और इसके प्रारंभिक लक्षण

तुलसी से सफेद दाग का इलाज | सफेद दाग क्यों होता है और इसके प्रारंभिक लक्षण – सफ़ेद दाग त्वचा संबंधित बीमारी है. जिसका इलाज करना कठिन काम हैं. लोगो के हाथ-पैर मुंह पर सफ़ेद दाग हो जाते है. सफ़ेद दाग की बीमारी तब होती है. जब हमारे शरीर में मौजूद रंग बनाने वाली कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं. इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को मेडिकली कोई नुकसान नहीं होता हैं. सिर्फ सामाजिक दृष्टी से देखा जाए तो यह एक विकार हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से तुलसी से सफेद दाग का इलाज बताने वाले हैं. तथा सफेद क्यों होता है. और सफेद दाग के प्रारंभिक लक्षण के बारे में भी बताने वाले हैं.

Tulsi-se-safed-dag-ka-ilaj-kyo-hota-h-prarnbhik-lakshan (1)

तो आइये इस बारे में हम आपको विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान करते हैं.

सफेद दाग क्यों होता है

सफ़ेद दाग होने के कई सारे कारण हो सकते हैं. जैसे की आपकी इम्यून सिस्टम ने रंग बनाने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर दिया है. तो इस वजह से सफ़ेद दाग होने की संभावना होती हैं.

इसके अलावा यह रोग अनुवंशिक भी हैं. आपकी आगे की पीढ़ी में अगर किसी को यह बीमारी थी. तो यह आपको भी होने की संभावना होती हैं. तथा थाईरोइड और सनबर्न जैसी समस्या में भी शरीर पर सफ़ेद दाग होते हैं.

खुजली के इंजेक्शन नामदवा का नाम पतंजलि, लोशन, घरेलू उपाय

तुलसी से सफेद दाग का इलाज

वैसे तो हम सभी लोग जानते है. की तुलसी में काफी सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं. तुलसी काफी सारी बीमारीयों में उपयोगी हैं. जैसे की तुलसी बुखार, दमा, फेफड़ों की बीमारी, ह्रदय रोग, मुंह के रोग, श्वास संबंधित बीमारी इन सभी रोगों से छुटकारा दिलाती हैं.

Tulsi-se-safed-dag-ka-ilaj-kyo-hota-h-prarnbhik-lakshan (3)

लेकिन यह सफ़ेद दाग से छुटकारा दिलाने में भी काफी मददगार साबित होती हैं. अगर किसी के शरीर पर सफ़ेद दाग है. तो हमने नीचे तुलसी के उपयोग से इलाज करने की पूरी विधि बताई हैं.

  • सबसे पहले आपको तुलसी के कुछ पत्ते और नींबू लेना हैं.
  • अब एक कटोरी में नींबू को काटकर उसका रस निकाल लेना हैं.
  • अब नींबू के रस में तुलसी के कुछ पत्ते डाले और दोनों को हाथ से अच्छे से मसलकर पेस्ट बना ले.
  • अब इस पेस्ट को प्रभावित जगह पर जहां जहां सफ़ेद दाग है वहा लगा ले.
  • अब 15 मिनिट तक ऐसे ही रहने दे. उसके बाद हल्के गुनगुने पानी से त्वचा का धो ले.
  • यह प्रक्रिया आपको लगातार 6 महीने तक नियमित रूप से करनी हैं. इससे आपको सफ़ेद दाग में फायदा देखने मिलेगा. और धीरे धीरे आपके सफ़ेद दाग कम होते जाएगे.

यह उपाय करने से आपकी त्वचा पर कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होगा. यह एक घरेलू उपाय है. जो सफ़ेद दाग की बीमारी में काफी कारगर साबित होगा.

महिलाओं को जोश की गोली का नाम महिला जोश की गोली का नाम बताइए

सफेद दाग के प्रारंभिक लक्षण

सफ़ेद दाग पुरे शरीर पर होने से पहले इसके कुछ प्रारंभिक लक्षण दिखाई देते है. अगर आपको नीचे दिए हुई लक्षण अपने शरीर में दिखाई दे. तो तुरंत ही उपचार शरू करवा ले. या फिर हमारे द्वारा बताया गया तुलसी वाला प्रयोग करे. जिससे यह आगे बढ़ने से रुक जाएगा. और बीमारी को जल्द ही जड से खत्म कर देगा.

Tulsi-se-safed-dag-ka-ilaj-kyo-hota-h-prarnbhik-lakshan (2)

सफेद दाग के प्रारंभिक लक्षण निम्नलिखित है:

  • भौ, दाढ़ी तथा सिर के बाल असमय अगर सफ़ेद होने लगे तो तुरंत ही उपचार करवाए.
  • त्वचा पर किसी भी जगह पीले कलर का दाग होना.
  • धुप के संपर्क में आने से सफ़ेद दाग पर जलन होना.
  • अगर आपके शरीर पर कोई छोटा सा सफ़ेद दाग हुआ है. तो धुप के संपर्क में आते ही दाग का बड़ा होगा.

जोश की गोली खाने से क्या होता है | जोश बढ़ाने की दवा का नाम और घरेलु उपाय

सफ़ेद दाग के घरेलू उपाय

हमने आपको सफ़ेद दाग से छुटकारा पाने के लिए तुलसी का घरेलू उपाय बताया. इसके अलावा भी सफ़ेद दाग दूर करने के कुछ घरेलू उपाय है. जो हमने नीचे बताए है.

  • अगर किसी को सफ़ेद दाग है. तो रात भर तांबे के लौटे में पानी भरकर रखे. और सुबह खाली पेट पीने से सफ़ेद दाग की समस्या में राहत मिलती हैं.
  • अनार के पत्तियों का रस निकालकर पीने से और उसे प्रभावित जगह पर लगाने से सफ़ेद दाग से छुटकारा मिलता हैं.
  • नारियल तेल से दिन में तिन बार शरीर पर मालिश करने से सफ़ेद दाग की समस्या में राहत मिलेगी.
  • हल्दी और सरसों तेल को मिलाकर इस मिश्रण को सफ़ेद दाग पर लगाने से सफ़ेद दाग से छुटकारा मिलेगा.

लीवर मजबूत करने की दवाआयुर्वेदिक दवा, रामबाण इलाज पतंजलि / लिवर को स्ट्रांग बनाने की दवा

सफ़ेद दाग में रखे जाने वाली सावधानियां

अगर किसी को सफेद दाग की समस्या है. तो निम्नलिखित सावधानियां रखनी जरूरी है:

  • जैसे की धुप से शरीर का बचाव करना चाहिए. अगर आप धुप में निकल रहे है. तो पुरे शरीर को ढके ऐसे कपडे पहनने चाहिए.
  • त्वचा को धुल मिट्टी से बचाना चाहिए. अगर धुल मिट्टी लगती है. तो तुरंत ही उसे साफ कर दे.
  • आहार में मछली का सेवन करने के बाद दूध नही पीना चाहिए.
  • अपने रोजिंदा खाने में नमक कम मात्रा में डाले.
  • खट्टी चीजों से दूर रहे.

dexona injection uses in hindi side effects | dexona injection uses in pregnancy in hindi

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से तुलसी से सफेद दाग का इलाज करने की पूरी विधि बताई हैं. इसके अलावा इसमें रखे जाने वाली सावधानियां, प्रारंभिक लक्षण तथा कुछ घरेलू उपाय भी बताए हैं. तथा सफ़ेद दाग से जुड़े और भी टॉपिक हमने कवर किये है. हम उम्मीद करते है की आप के लिए यह आर्टिकल उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह तुलसी से सफेद दाग का इलाज / सफेद दाग क्यों होता है और इसके प्रारंभिक लक्षण आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

normal esr kitna hona chahiye | esr test normal range for child, female and male in hindi

crp kam karne ke upay in hindi | crp कम करने के घरेलू उपाय | how to reduce crp level in hindi

नाभि में गुलाब जल लगाने के फायदे | दांतों, बालों, आंखो के लिए गुलाब जल फायदेमंद 

2 thoughts on “तुलसी से सफेद दाग का इलाज | सफेद दाग क्यों होता है और इसके प्रारंभिक लक्षण”

Leave a Comment